Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in Hindi/English – Kashmir Ki Kali 1964 Old is Gold, Romantic

Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in Hindi/English – Kashmir Ki Kali 1964 Old is Gold, Romantic: Yeh Chand Sa Roshan Lyrics is a hindi song from the 1964 movie Kashmir Ki Kali. Yeh Chand Sa Roshan Lyrics singer is Mohammed Rafi and composer is Omkar Prasad Nayyar and Yeh Chand Sa Roshan lyricist or song writer is Shamsul Huda Bihari (S. H. Bihari). Yeh Chand Sa Roshan music director is Omkar Prasad Nayyar. Yeh Chand Sa Roshan features Shammi Kapoor, Sharmila Tagore, Pran. The audio of Yeh Chand Sa Roshan song was released on 24th April, 1964 by Saregama. Yeh Chand Sa Roshan Lyrics YouTube video song can be watched below.

Yeh Chand Sa Roshan Lyrics Song Credits:

  • Song: Yeh Chand Sa Roshan Lyrics
  • Movie: Kashmir Ki Kali (1964)
  • Singer: Mohammed Rafi
  • Music: O. P. Nayyar
  • Lyrics: S H Bihari
  • Cast: Shammi Kapoor, Sharmila Tagore
  • Director: Shakti Samanta

Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in Hindi

https://youtu.be/4mZE_wJ6mmg
Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in Hindi/English – Kashmir Ki Kali 1964 Old is Gold, Romantic

ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
ये झील सी नीली आँखे कोई
राज हैं इन में गहरा

तारीफ़ करूँ क्या उस की
जिस ने तुम्हें बनाया
ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा

ये झील सी नीली आँखे कोई
राज हैं इन में गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उस की
जिस ने तुम्हें बनाया

एक चीज क़यामत भी है
लोगों से सुना करते थे
तुम्हे देख के मैंने मन
वो ठीक कहा करते थे
वो ठीक कहा करते थे

है चाल में तेरी जालिम
कुछ ाएसि बला का जादू
सौ बार संभाला दिल को
पर हो के रहा बेकाबू

तारीफ़ करूँ क्या उस की
जिस ने तुम्हें बनाया
ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा

ये झील सी नीली आँखे कोई
राज हैं इन में गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उस की
जिस ने तुम्हें बनाया

हर सुबह किरण की लायी
हैं रंग तेरे गालों का
हर शाम की चादर काली
सया हैं तेरे बालों का

हर सुबह किरण की लायी
हैं रंग तेरे गालों का
हर शाम की चादर काली
सया हैं तेरे बालों का
सया हैं तेरे बालों का

तू बलखाती एक नदियाँ
हर मौज तेरी अंगड़ाई
जो इन मौजो में डूबा
उस ने ही दुनिया पायी

तारीफ़ करूँ क्या उस की
जिस ने तुम्हें बनाया
ये चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा

ये झील सी नीली आँखे कोई
राज हैं इन में गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उस की
जिस ने तुम्हें बनाया

मैं खोज में हूँ मंज़िल की
और मंज़िल पास है मेरी
मुखड़े से हटा दो आंचल
हो जाये दूर अँधेरे
हो जाये दूर अँधेरे

मन के ये जलवे तेरे
कर देंगे मुझे दीवाना
जी भर के ज़रा में देखूं
अंदाज़ तेरा मस्ताना
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हे बनाया

यह चांद सा रोशन चेहरा
ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
यह झील सी नीली ऑंखें
कोई राज़ है इनमे गहरा
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हे बनाया

तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हे बनाया
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हे बनाया
तारीफ़ करूँ क्या उसकी
जिसने तुम्हे बनाया.

Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in English

Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in Hindi/English - Kashmir Ki Kali 1964 Old is Gold, Romantic
Yeh Chand Sa Roshan Lyrics in Hindi/English – Kashmir Ki Kali 1964 Old is Gold, Romantic

Ye chand sa roshan chehara
Zulfon ka rang sunehara
Ye zil si nili aankhe koi
Raaj hain in mein gehara
Taarif karu kya us ki
Jis ne tumhe banaya
Ye chand sa roshan chehara
Zulfon ka rang sunehara
Ye zil si nili aankhe koi
Raaj hain in mein gehara
Taarif karu kya us ki
Jis ne tumhe banaya

Yek chij qayamat bhi hai
Logon se suna karate the
Tumhe dekh ke maine mana
Wo thik kahaa karate the
Wo thik kahaa karate the
Hai chaal mein teri jaalim
Kuch ayesi balaa ka jaadoo
Sau baar sanbhaalaa dil ko
Par ho ke rahaa bekaboo
Taarif karu kya us ki
Jis ne tumhe banaya
Ye chand sa roshan chehara
Zulfon ka rang sunehara
Ye zil si nili aankhe koi
Raaj hain in mein gehara
Taarif karu kya us ki
Jis ne tumhe banaya

Har subah kiran ki laayi
Hain rang tere gaalon ka
Har shaam ki chaadar kali
Saya hain tere baalon ka
Har subah kiran ki laayi
Hain rang tere gaalon ka
Har shaam ki chaadar kali
Saya hain tere baalon ka
Saya hain tere baalon ka
Too balakhaati yek nadiyaan
Har mauj teri angadai
Jo in maujo mein doobaa
Us ne hi duniyaan paayi
Taarif karu kya us ki
Jis ne tumhe banaya
Ye chand sa roshan chehara
Zulfon ka rang sunehara
Ye zil si nili aankhe koi
Raaj hain in mein gehara
Taarif karu kya us ki
Jis ne tumhe banaya

Main khoj mein hoon manzil ki
Aur manzil paas hai meri
Mukhde se hata do anchal
Ho jaye door andhere
Ho jaye door andhere

Mana ke ye jalwe tere
Kar denge mujhe diwana
Ji bhar ke zara mein dekhun
Andaz tera mastana
Taarif karun kya uski
Jisne tumhe banaya

Yeh chand sa roshan chehra
Zulfon ka rang sunehra
Yeh jhil si nili ankhen
Koi raaz hai inme gehra

Taarif karun kya uski
Jisne tumhe banaya
Taarif karun kya uski
Jisne tumhe banaya
Taarif karun kya uski
Jisne tumhe banaya
Taarif karun kya uski
Jisne tumhe banaya.