Ghar Se Nikalte Hi Lyrics in Hindi/English – Armaan Malik | Romantic song |

Ghar Se Nikalte Hi Lyrics by Armaan Malik is romantic song sung by him. Its music is composed by Amaal Mallik and lyrics are written by Kunaal Vermaa. This song is adopted from the original track from the movie “Papa Kehte Hain”.Song: Ghar Se Nikalte Hi

Song Credits:

Singers: Armaan Malik
Musicians: Amaal Mallik
Lyricists: Kunaal Vermaa

Original Song Credits:

Singer: Udit Narayan
Lyrics: Javed Akhtar
Music: Rajesh Roshan

Ghar Se Nikalte Hi Lyrics in Hindi





घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर

पहली दफ़ा मैंने
जब उसको देखा था
सांसें गयी ये ठहर
रहती है दिल में मेरे
कैसे बताऊँ उसे
मैं तो नहीं कह सका
कोई बता दे उसे
घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर

उसकी गली में है ढली
कितनी ही शामें मेरी
देखे कभी वो जो मुझे
खुश हूँ मैं इतने में ही
मैंने तरीके सौ आजमाए
जाके उसे ना कुछ बोल पाए
बैठे रहे हम रात भर
जो पास जाता हूँ
सब भूल जाता हूँ
मिलती है जब ये नज़र
घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर

कल जो मिले वो राहों में
तो मैं उसे रोक लूं
उसके दिल में क्या है छिपा
इक बार मैं पूछ लूं
पर अब वहाँ वो रहती नहीं है
मैंने सुना है वो जा चुकी है
खाली पड़ा है ये शहर
मैं फिर भी जाता हूँ
सब दोहराता हूँ
शायद मिले कुछ खबर हो..
हम्म..
घर से निकलते ही
कुछ दूर चलते ही
रस्ते में है उसका घर

Ghar Se Nikalte Hi Lyrics in English

Ghar se nikalte hi 

Kuch door chalte hi 
Raste mein hai uska ghar 
Pehli dafa maine 
Jab usko dekha tha 
Sansein gaai ye thehar 
Rehti hai dil mein mere 
Kaise bataun usse 
Main to nahi keh saka 
Koi bata de usse 
Ghar se nikalte hi 
Kuch door chalte hi 
Raste mein hai uska ghar 
Uski gali mein hai dhali 
Kitni hi shamein meri 
Dekhe kabhi wo jo mujhe 
Khush hoon main itne mein hi 
Maine tarike sau aazmaye 
Jake use naa kuch bol paye 
Baithe rahe hum raat bhar 
Jo pass jata hoon 
Sab bhul jata hoon 
Milti hai jab ye nazar 
Ghar se nikalte hi 
Kuch door chalte hi 
Raste mein hai uska ghar 
Kal jo mile wo raahon mein 
To main usse rok loon 
Uske dil mein kya hai chhipa 
Ik baar main puchh loon 
Par ab wahan wo rehti nahi hai 
Maine suna hai wo ja chuki hai 
Khali pada hai ye shehar.. 
Main phir bhi jata hoon 
Sab dohrata hoon 
Shayad mile kuch khabar ho.. 
hmm.. 
Ghar se nikalte hi 
Kuch door chalte hi 
Raste mein hai uska ghar

Leave a Comment